Home ट्रेंडिंग न्यूज क्या सच में बन गई कोरोना की वैक्सीन

क्या सच में बन गई कोरोना की वैक्सीन

by Mahima Bhatnagar
lab

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर पूरी दुनिया में रिसर्च चल रहा है अलग-अलग देश यह दावा कर रहे हैं कि उनके यहां वैक्सीन बन रही है। इस बीच अमेरिकी वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उनकी वैक्सीन ने उस स्तर की ताकत हासिल कर ली है, जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सके।

इसे भी पढ़ें: 5 अप्रैल, रात 9 बजे, 9 मिनट: पीएम की इस अपील पर ट्वीटर पर उठे सवाल

पूरी दुनिया भर के वैज्ञानिक इस घातक बीमारी की दवा खोजने में लगे हैं। कोरोना वायरस की वजह से अब तक 47 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। 10 लाख लोग बीमार हैं। इसलिए वैज्ञानिकों की चिंता ये है कि वो जल्द से जल्द वैक्सीन बनाएं।

यूनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन के वैज्ञानिकों ने कहा है कि वे बाकी देशों की तुलना में बहुत जल्द कोविड-19 कोरोना वायरस की वैक्सीन विकसित कर चुके हैं। इस यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने जो वैक्सीन बनाई है उसके लिए इन लोगों ने सार्स (SARS) और मर्स (MERS) के कोरोना वायरस को आधार बनाया था।

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन: पीएम मोदी ने देश की जनता से मांगे 9 मिनट, 5 अप्रैल को दिखाई देगी एकजुटता

पिट्सबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन की एसोसिएट प्रोफेसर आंद्रिया गमबोट्टो ने बताया कि ये दोनों सार्स और मर्स के वायरस नए वाले कोरोना वायरस यानी कोविड-19 से बहुत हद तक मिलते हैं। इससे हमें ये सीखने को मिला है कि इन तीनों के स्पाइक प्रोटीन (वायरस की बाहरी परत) को भेदना बेहद जरूरी है ताकि इंसानों के इस वायरस से मुक्ति मिल सके।

Loading...

प्रोफेसर आंद्रिया गमबोट्टो ने कहा कि हमें यह पता कर लिया है कि वायरस को कैसे मारना है। उसे कैसे हराना है। हमने अपनी वैक्सीन को चूहे पर आजमा कर देखा, और इसके परिणाम बेहद पॉजिटिव थे।

इसे भी पढ़ें: क्या आगे बढ़ेगा 21 दिनों का लॉकडाउन?

प्रोफेसर आंद्रिया गमबोट्टो ने कहा कि हमें यह पता कर लिया है कि वायरस को कैसे मारना है। उसे कैसे हराना है। हमने अपनी वैक्सीन को चूहे पर आजमा कर देखा, और इसके परिणाम बेहद पॉजिटिव थे।


Loading...

Related Articles

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.