Home बिहार का नायक कटिहार की ‘मैडम माराडोना’ है पूजा!

कटिहार की ‘मैडम माराडोना’ है पूजा!

by TrendingNews Desk

कहते हैं प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है,चाहे वो बड़े शहर में हो या छोटे शहरों में| अगर किसी में प्रतिभा है तो वो लोगों की नजरों में आ ही जाती है| कुछ यही कहानी है कटिहार जैसे शहर में रहने वाली पूजा की| पैरों में बूट,हाफ पैंट और टी-शर्ट पहनकर विपक्षी टीमों के छक्के छुड़ाने वाली इस लड़की को लोग प्यार से ‘मैडम मराडोना’ के नाम से पुकारते हैं| पुकारें भी क्यों ना,अभी हाल ही में पटना में संपन्न हुए एक टूर्नामेंट में पूजा ने सर्वाधिक दस गोल किए और सर्वाधिक गोल करने का खिताब अपने नाम किया| पूजा जब फुटबॉल के मैदान में उतरती है तो विपक्षी टीम के खिलाड़ी भी उसकी हुनर देखकर दंग रह जाते हैं और उसके खेल पर तालियां बजाते हैं| यही कारण है कि आज पूजा का सेलेक्शन अंडर 19 राष्ट्रीय टीम में हुआ है| ये बात सुनकर पूजा के आंखों से आँसू निकल जाते हैं वो कहती है कि उसने इस लक्ष्य को पाने के लिए कठिन तपस्या की है| जब बच्चे घरों में मस्ती करने के मूड में होते हैं, तभी वो अपनी जर्सी डालकर कोच के साथ अभ्यास में जुटी होती है| शहर के ही दसवीं क्लास में पढ़ने वाली पूजा दस नंबर की जर्सी पहनकर मैदान में उतरती है और बिजली की रफ्तार से मैदान में विपक्षियों को छकाती है|
फुटबॉलर पूजा की पारिवारिक कहानी भी संघर्षों से भरी है| पूजा के माता-पिता सब्जी बेचते हैं,पूजा भी फुर्सत के क्षणों में उनका हाथ बंटाती है| और तो और जब उसके पिता थक जाते हैं तो पूजा अपने परिवार के लिए ठेला खींचने से भी संकोच नहीं करती| एक मां को आज अपने बेटी पर गर्व है और उसकी लगन देखकर उसके आंखों में आँसू आ जाते हैं वो कहती हैं कि बेटियों के पैर में बेड़ियां नहीं बांधनी चाहिए| बेटियां बोझ नहीं होतीं जब वो इतने गरीब होकर और कमाकर बेटी की खातिर त्याग कर सकते हैं तो और लोग क्यों नहीं? आज पूजा के चलते माता-पिता का गर्व से सर उँचा है| पूजा राष्ट्रीय टीम के साथ दुबई जाने वाली है जहां वो अपनी प्रतिभा दिखाएगी|

पूजा जिस घर से आती है उस परिवार के लिए विदेश जाना ख्वाब से कम नहीं है| पूजा की मानें तो उसकी इस उंचाई तक पहुंचने में परिवार ने भरपूर साथ निभाया| आगे पूजा एक सफल फुटबॉल खिलाड़ी बनना चाहती है| पूजा का कहना है कि वो प्रतिदिन शाम में स्कूल जाकर फुटबॉल की प्रैटिक्स करती है| सुबह स्कूल जाने और परिवार के काम में हाथ बंटाने के कारण उसे समय नहीं मिल पाता है|  वो उन पैरेंट्स से अपील करती है कि बेटियों का बाल विवाह नहीं करें| आज बेटी और बेटे में कोई फर्क नहीं है|
कटिहार की इस बेटी की कामयाबी पर अब सरकार की भी आंखे खुली है| सरकार के नुमाइंदे भी अब पूजा को हरसंभव मदद का भरोसा दिला रहे हैं और जिला प्रशासन की ओर से हरसंभव सहयोग का भरोसा दे रहे हैं|

Related Articles

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.