आखिर ज्योतिरादित्य सिंधिया को क्यों नहीं भुला पा रहे हैं राहुल गांधी ?

by Mahima Bhatnagar
Published: Last Updated on
Rahul and jyotiraditya

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़कर जाने से ऐसा लग रहा है जैसे राहुल गांधी के पैरों तले जमीन निकल गई हो। इतने समय से वो सोशल मीडिया पर ज्यादा एक्टिव नहीं थे, लेकिन सिंधिया के कांग्रेस छोड़ते ही राहुल की सोशल मीडिया पर वापसी हो गई है। ऐसा लग रहा है जैसे राहुल की सांस रूक गई हो। वो एक के बाद एक भावुक संदेश डाल रहे हैं। उन्होंने म.प्र के सीएम कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर ट्वीट कर दोनों ही नेताओं को एक भावुक संदेश देने की कोशिश की।

इसे भी पढ़ें-क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया की बगावत ने बीजेपी को किया मजबूत

राहुल गांधी ने किया ये ट्वीट

कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने 13 दिसंबर 2018 को किए गए अपने ट्वीट को उस समय र‍िट्वीट किया जब सिंधिया ने 18 साल पुराना ‘हाथ’ का साथ छोड़कर ‘कमल’ का दामन थाम लिया। यह र‍िट्वीट माना जा रहा है कि राहुल गांधी ने अपने ‘मित्र’ ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को यह बताने की कोशिश की कि उन्‍हें धैर्य रखना चाहिए था और सही समय आने का इंतजार करना चाहिए था।

एक ही कॉलेज में साथ पढ़े हैं ज्‍योतिरादित्‍य

दरअसल राहुल गांधी और ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया दोनों बेहद घनिष्‍ठ मित्र थे। मध्‍य प्रदेश संकट के दौरान ऐसे आरोप लगाए गए कि राहुल गांधी ने सिंधिया को मिलने का समय नहीं दिया। इस गंभीर आरोप पर बेहद भावुक नजर आए। राहुल गांधी ने इसका एक लाइन में जवाब दिया, ‘ज्‍योतिरादित्‍य ऐसे इकलौते नेता हैं जो किसी भी समय मेरे घर आ सकते हैं…वह कॉलेज के दिनों मेरे साथ थे।’

इसे भी पढ़ें-ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के पीछे का क्या है कारण

दरअसल, राहुल गांधी और ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया दोनों हम उम्र हैं और दिल्‍ली के प्रतिष्ठित सेंट स्‍टीफेंस कॉलेज से एक साथ पढ़ाई की है। दोनों की दोस्‍ती इतनी गहरी थी क‍ि हर बड़े मंच पर वे एकसाथ नजर आते थे। विश्‍लेषकों के मुताबिक राहुल गांधी इस पूरे मामले को लेकर अनिर्णय की स्थिति में थे। राहुल यह तय नहीं कर पाए कि सिंधिया बनाम कमलनाथ-दिग्विजय सिंह की जोड़ी में किसे तरजीह दी जाए।

एक तरफ राहुल गांधी अनिर्णय की स्थिति में थे, तो दूसरी ओर ज्‍योतिरादित्‍य के पास कोई काम नहीं था। वह पहले ही लोकसभा चुनाव हार चुके थे। निराशा की इस स्थिति में राज्‍यसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने की आशंका ने आग में घी का काम किया। ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया का धैर्य जवाब दे गया और उन्‍होंने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया। इस्‍तीफे के बाद ज्‍योतिरादित्‍य ने अपने बयान में इसी का संकेत दिया

इसे भी पढ़ें-आखिर ऐसा क्या हुआ जिसके कारण बर्बाद हो गया यस बैंक

कांग्रेस पार्टी बदल चुकी है: ज्योतिरादित्य

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, ‘ कांग्रेस पार्टी में रहकर मैंने 18-19 वर्षों में पूरी श्रद्धा के साथ देश-प्रदेश की सेवा करने की कोशिश की है। लेकिन मन दुखी है कि जो स्थिति आज उत्पन्न हुई है, मैं कह सकता हूं कि जनसेवा के लक्ष्य की पूर्ति उस संगठन से नहीं हो पा रही है। इसके अतिरिक्त वर्तमान में जो स्थिति कांग्रेस पार्टी में है वह कांग्रेस पार्टी आज नहीं रही जो पहले थी।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी वास्तविकता से इनकार करती है, नई सोच, विचारधारा और नए नेतृत्व को मान्यता नहीं दी जाती है।