Home ट्रेंडिंग न्यूज 26/11 के दस साल, पढ़ें उस दिन कैसे चला खूनी खेल

26/11 के दस साल, पढ़ें उस दिन कैसे चला खूनी खेल

by Mahima Bhatnagar

नई दिल्ली। आज मुंबई में हुए आतंकी हमले को 10 साल पूरे हो गए हैं। इस हमले में करीब 166 लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले में आम लोगों के साथ-साथ कई जवान भी घायल हुए थे। आज में बताएंगे की 26/11 के उस दिन मुंबई में क्या हुआ था।

इसे भी पढ़ें: आज से शुरू हो रहा है बिहार विधानमंडल शीतकालीन सत्र, विपक्ष ने शुरू किया हंगामा

बात 26 नवंबर 2008 की शाम मुंबई में गुलजार हो रही थी कि अचानक शहर के एक हिस्से में गोलियां चलने लगीं। आतंकियों ने कहर बरपाना शुरू कर दिया था, जिसकी शुरुआत लियोपोल्ड कैफे और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) से हुई थी।

पहले पहल तो किसी को भी यह अंदाजा नहीं था कि यह हमला इतना बड़ा हो सकता है. लेकिन धीरे- धीरे मुंबई के और इलाकों से धमाकों और गोलीबारी की खबरें आने लगी थीं। आधी रात होते-होते मुंबई शहर की फिजाओं में आतंक का असर नज़र आने लगा था।

इसे भी पढ़ें: जब पूर्व कप्तान धोनी ने बस चलाकर टीम को मैदान तक पहुंचाया

मुंबई टर्मिनस पर मारे गए थे सबसे ज्यादा लोग: आतंक का तांडव मुंबई के सबसे व्यस्ततम रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर शुरु हुआ था। यहां मौजूद किसी यात्री को इस बात अंदाजा नहीं था कि स्टेशन पर आतंक का खूनी खेल होने वाला है। वहां बड़ी संख्या में यात्री मौजूद थे।

दो आतंकियों ने वहां पहुंचकर अंधाधुंध फायरिंग की थी और हैंड ग्रेनेड भी फेंके थे। जिसकी वजह से 58 बेगुनाह यात्री मौत की आगोश में समा गए थे। जबकि कई लोग गोली लगने और भगदड़ में गिर जाने की वजह से घायल हो गए थे। इस हमले को अजमल आमिर कसाब और इस्माइल खान नाम के आतंकियों ने अंजाम दिया था।

इसे भी पढ़ें: दीपवीर की हुई शादी, लेकिन वायरल हो रही है इस दुल्हन की फोटो

छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के अलावा आतंकियों ने ताज होटल, होटल ओबेरॉय, लियोपोल्ड कैफ़े, कामा अस्पताल और दक्षिण मुंबई के कई स्थानों पर हमले शुरू कर दिए थे। आधी रात होते-होते मुंबई के कई इलाकों में हमले हो रहे थे। शहर में चार जगहों पर मुठभेड़ चल रही थी।

पुलिस के अलावा अर्धसैनिक बल भी मैदान में डट गए थे. एक साथ इतनी जगहों पर हमले ने सबको चौंका दिया था। इसकी वजह से आतंकियों की संख्या का अंदाजा लगाना मुश्किल हो रहा था। ताज होटल में चली थी सबसे लंबी मुठभेड़: 26 नवंबर की रात में ही आतंकियों ने अपना रुख पूरी तरह से ताज होटल की तरफ कर दिया था। यहां आतंकियों ने कई मेहमानों को बंधक बना लिया था, जिनमें सात विदेशी नागरिक भी शामिल थे। ताज होटल के हेरीटेज विंग में आग लगा दी गई थी।

इसे भी पढ़ें: बिहार में सुशील मोदी और लालू यादव के बीच छिड़ी ट्विटर वॉर

27 नवंबर की सुबह एनएसजी के कमांडो आतंकवादियों का सामना करने पहुंच चुके थे। सबसे पहले होटल ओबेरॉय में बंधकों को मुक्त कराकर ऑपरेशन 28 नवंबर की दोपहर को खत्म हुआ था, और उसी दिन शाम तक नरीमन हाउस के आतंकवादी भी मारे गए थे। लेकिन होटल ताज के ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाने में 29 नवंबर की सुबह तक का वक्त लग गया था।

Related Articles

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.