दीपिका से सलमान तक, ये वो मौके जब स्टार्स का किया गया बहिष्कार

by Mahima Bhatnagar

नई दिल्ली। बॉलीवुड आजकल कट्टरपंथीयों का सॉफ्ट टारगेट बन गया है। जिसके कारण ज्यादातर बॉलीवुड स्टार्स अपना पॉलिटिकल ओपिनियन लोगों के सामने नहीं रखते। कई बॉलीवुड स्टार्स ऐसे हैं जिनके खिलाफ फतवे जारी किए गए, कई स्टार्स की फिल्में रिलीज होने से रोकी गई। राइट विंग, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और करणी सेना कई बार फिल्मों का बहिष्कार करती नजर आई है। जिसके कारण फिल्म इंडस्ट्री को काफी नुकसान झेलना पड़ा है।

दीपिका पादुकोण की फिल्म का बहिष्कार

deepika

हाल ही में दीपिका पादुकोण जेएनयू में छात्रों के बीच साइलेंट प्रोटेस्ट करती नजर आई। जिसके बाद वो सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल हुई। इस प्रोटेस्ट के कारण इनकी आने वाली फिल्म छपाक का लोगों ने बॉडकॉट करना शुरू कर दिया।

इसे भी पढें: दीपिका से सलमान तक, ये वो मौके जब स्टार्स का किया गया बहिष्कार

दीपिका पादुकोण को छपाक से पहले भी फिल्म पद्मावत और गोलियों की रासलीला: रामलीला को लेकर विवाद का सामना करना पड़ा था। पद्मावत के खिलाफ करणी सेना ने हिंसक प्रदर्शन किए थे, इसके अलावा संजय लीला भंसाली पर करणी सेना ने हमला भी किया था। उनकी पिछली फिल्म रामलीला का नाम बदलकर भी गोलियों की रासलीला: रामलीला रखा गया था क्योंकि राइट विंग संस्थानों ने इसे हिंदू आस्था के खिलाफ बताया था।

Loading...

सलमान खान

salman

यूं तो सलमान खान पीएम मोदी के साथ पतंग उड़ाते हुए नजर आ चुके हैं, और खास बात ये है कि, उनके पिता के साथ पीएम मोदी के संबंध भी अच्छे हैं। लेकिन हालिया समय में उनके शो बिग बॉस को लेकर प्रदर्शन तेज हुए। करणी सेना समेत कुछ लोग सलमान के इस शो के कंटेंट को आपत्तिजनक बता चुके हैं और इस शो को बैन करने की मांग भी हुई। जिसके बाद सलमान खान के घर की सुरक्षा बढ़ाई गई थी।

इसे भी पढ़ें: बॉलीवुड की इन एक्ट्रेस की कमाई अपने पतियों से है कितनी ज्यादा, पढ़ें यहां

शाहरुख खान

shahrukh

बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान को शिवसेना और कुछ राइट विंग संस्थाओं के आक्रोश झेलना पड़ा था। क्योंकि उन्होंने आईपीएल में पाकिस्तान के खिलाड़ियों को खिलाने की पैरवी की थी। इसके अलावा उनकी फिल्म माई नेम इज खान पर भी काफी बवाल हुआ था। शाहरुख ने अपने 50वें बर्थ डे पर देश में असहिष्णुता को लेकर सवाल उठाए थे जिसके बाद देश के अलग-अलग हिस्सों में बजरंग दल और वीएचपी जैसी राइट विंग संस्थानों ने उनकी फिल्म दिलवाले को रिलीज ना होने की धमकी दी थी।

आमिर खान

amir Khan

आमिर खान ने 2006 में जंतर मंतर पर प्रदर्शन कर रहीं एक्टिविस्ट मेधा पाटेकर का समर्थन किया था। मेधा उस समय गुजरात सरकार के एक फैसले का विरोध कर रही थी जिसमें ये कहा गया था कि सरदार सरोवर बांध की लंबाई बढ़ाई जाएगी। उस दौरान आमिर की फिल्म रंग दे बसंती रिलीज होने वाली थी और वे अपनी पूरी टीम के साथ मेधा का समर्थन करने पहुंचे थे.।आमिर की नर्मदा बचाओ आंदोलन में सक्रियता देखकर कई लोग हैरान हुए थे।

इसे भी पढ़ें: बॉलीवुड के मेगास्टर अमिताभ बच्चन को मिला दादा साहेब फालके पुरस्कार

इससे पहले आमिर ने साल 2002 में गुजरात दंगों को लेकर कहा था कि एक चीफ मिनिस्टर होने के नाते मोदी स्थिति को अपने काबू में नहीं कर पाए।उनके इस विवादित बयान के बाद गुजरात में साल 2006 में आई उनकी फिल्म फना को अनाधिकारिक रुप से बैन कर दिया गया।

नवाजुद्दीन सिद्दीकी

nawazudin

नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपने गांव बुधाना में रामलीला प्रोग्राम में शामिल होने गए थे लेकिन वहां मौजूद कुछ राइट विंग एक्टिविस्ट्स ने उनका इस मामले में विरोध किया था। इसके बाद नवाज को अपना प्रोग्राम कैंसल करना पड़ा था। इस पर नवाजुद्दीन ने कहा था कि मुझे ये बताया गया कि गांव में शांति की बहाली के लिए ये बेहतर होगा कि वे इस कार्यक्रम में ना पहुंचे। नवाज ने ये भी कहा था कि उनका रामलीला में परफॉर्म करना एक सपना है और वे इसके लिए फिर प्रयास करेंगे।

करण जौहर

karan Johar

करण जौहर की फिल्म माई नेम इज खान को लेकर शिवसेना समर्थकों ने ऐतराज जताया था और फिल्म को लेकर बवाल हुआ था हालांकि बाद में गुजरात सीएम मोदी ने उनकी फिल्म को गुजरात में रिलीज कराने में मदद की थी। इसके अलावा फिल्म ऐ दिल है मुश्किल की रिलीज के दौरान भी उन्हें जबरदस्त प्रदर्शनों का सामना करना पड़ा था क्योंकि उस फिल्म में पाक कलाकार फवाद खान शामिल थे। करण को ये भी कहा गया था कि उन्हें 5 करोड़ रुपए आर्मी के लिए डोनेट करने चाहिए जिसके बाद करण ने ऑनस्क्रीन माफी भी मांगी थी।

Trending Videos



Loading...

Related Articles

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.